Hathras Rape Incident – Poem

3 mins read

छोडो मेहँदी खडक संभालो
खुद ही अपना चीर बचा लो
द्यूत बिछाये बैठे शकुनि,
मस्तक सब बिक जायेंगे
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो, अब गोविंद ना आयेंगे|

कब तक आस लगाओगी तुम,
बिक़े हुए अखबारों से,
कैसी रक्षा मांग रही हो
दुशासन दरबारों से|
स्वयं जो लज्जा हीन पड़े हैं
वे क्या लाज बचायेंगे
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो अब गोविंद ना आयंगे|

कल तक केवल अँधा राजा,
अब गूंगा बहरा भी है
होठ सी दिए हैं जनता के,
कानों पर पहरा भी है|
तुम ही कहो ये अश्रु तुम्हारे,
किसको क्या समझायेंगे?
सुनो द्रोपदी शस्त्र उठालो, अब गोविंद ना आयंगे|

-पुष्यमित्र उपाध्याय

Latest from Jottings

Calendar Drift

What is today’s date?  If you answer that question, most likely you are giving an answer…

The Allegory of the Cave

The Allegory of the Cave is a story from Book VII in the Greek philosopher Plato’s masterpiece “The…

INS Virat

The forlorn, but still majestic, carrier is a moving sight, for all of us. But far…